संघर्ष में लय की खोज की कवितायेँ– ‘क्षीरसागर में नींद’

अनिल कुमार पाण्डेय कविता में जब जन-सरोकारों के संरक्षण की बात आएगी तो कवि की निष्क्रियता एवं निष्पक्षता को लेकर सवाल किया जाएगा. किसी भी देश के सांस्कृतिक समाज और सामाजिक संस्कृति की समृद्धि कवि-विवेक और कविता-सामर्थ्य पर निर्भर करता है. जनसामान्य यहाँ एक हद तक उत्तरदायी नहीं होता जितने कि बुद्धिजीवी. साधारण जनता से …

सामाजिक सरोकारों की कहानियों का अनूठा संग्रह

दीपक गिरकर “प्रवास में आसपास” सुपरिचित प्रवासी कथाकार डॉ. हंसा दीप का दूसरा कहानी संग्रह है। डॉ. हंसा दीप टोरंटो में कई वर्षों से रह रही हैं। वे अमेरिकी-कनाडा संस्कृति से अच्छी तरह से परिचित होने के बावजूद अपनी भारतीय संस्कृति तथा भारतीय रीति-रिवाजों को नहीं भूली हैं। भारत के मेघनगर (जिला झाबुआ, मध्यप्रदेश) में …

साहित्य की सही रेसिपी

धर्मपाल महेंद्र जैन इन दिनों साहित्य में रस नहीं रहा, निचुड़ गया है। साहित्य क्विंटलों में छप रहा है और सौ-दो सौ ग्राम के पैकेट में बिक रहा है। जगह-जगह पुस्तक मेलों में बिक रहा है पर रसिकों को मज़ा नहीं आ रहा। साहित्य को सर्वग्राही होना चाहिये, समोसे जैसा होना चाहिये। जहाँ प्लेटें उपलब्ध हों वहाँ …

प्यार ही तुम सबका नियम होना चाहिए

गीताश्री ख़लील जिब्रान के जीवन की एक महत्वपूर्ण स्त्री मिस हैशकल ख़लील को ये बात समझाती है. युवा साथी पंकज कौरव का उपन्यास “शनि: प्यार पर टेढ़ी नजर” का मूल स्वर यही पहचान पा रही हूँ. प्यार और विश्वास दो ऐसे नक्षत्र हैं जो आपस में जुड़े हैं. एक घटित होता है तो दूसरा चमक …

मज़दूरों जीवन की पीड़ा का आख्यान : धर्मपुर लॉज

राजनारायण बोहरे “धर्मपुर लॉज” उस पीरियड उपन्यास का नाम है जो कथाकार प्रज्ञा ने  दिल्ली की सब्जी मंडी, मुकीम पुरा, बिरला मिल, घंटा घर और आसपास के जनजीवन पर लिखा है । इस उपन्यास का कालखंड सन 1980 से 1998 के बीच का है।  धर्मपुर लॉज उस भवन का नाम है, जो कि बिरला मिल …

सवालों में कथाकार

ललित कुमार श्रीमाली हिंदी के सुप्रसिद्ध कथाकार-उपन्यासकार स्वयं प्रकाश के साक्षात्कारों की पुस्तक कहा-सुना में पिछले बीस वर्षों की अवधि में लिए गए उन्नीस साक्षात्कारों का संकलन है। इन साक्षात्कारों से न केवल स्वयं प्रकाश के साहित्य को समझने में मदद मिलती है अपितु हम इसके माध्यम से इस समय व समाज को भी समझ सकते …

स्याह गलियों का रोज़नामचा

“ये बार डांसर…हाड़-मांस की नहीं बनी. ये तो सिर्फ नखरों से बनीं हैं. कुछ ख़ास बारों में ये आ कर आपकी बगल में बैठ जाएँगी और कहेंगी- हेल्लो हेन्सम, क्या मैं तुम्हारा सेल इस्तेमाल कर सकती हूँ या हाय स्वीटी तुम कैसे हो? और स्वाभाविक है कि आप उत्तेजित हो जायेंगे”

गंगेश्वरी

भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित विश्वविख्यात  सितारवादक पंडित रविशंकर की आत्मकथा ‘राग माला’ से एक अंश. वह सारा संसार जहाँ बनारस में मैं पैदा हुआ था एक ऐसे भारत की तरह था जो दो हज़ार वर्ष पूर्व का था। कुछ मोटरगाडिय़ों, साइकिलों और आधुनिकता के छोटे-बड़े चिह्नïों को छोड़, जो मेरी चारों तरफ थे, हर वस्तु …

मैं भी मुंह में जुबान रखता हूँ

हिन्दी के वरिष्ठ आलोचक प्रो. मैनेजर पांडेय के व्यक्तित्व और कृतित्व पर पर केन्द्रित वृतचित्र निर्देशन : महेश्वर, पटकथा : अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी, स्वर : आरजे दिलीप सिंह सम्पादन : कपिल शर्मा निर्माता : रेखा श्रीवास्तव, प्रस्तुति : स्वपन कम्युनिकेशन