पुस्तक अंश

गंगेश्वरी

भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित विश्वविख्यात  सितारवादक पंडित रविशंकर की आत्मकथा ‘राग माला’ से एक अंश. वह सारा संसार जहाँ बनारस में मैं पैदा हुआ था एक ऐसे भारत की तरह था जो दो हज़ार वर्ष पूर्व का था। कुछ मोटरगाडिय़ों, साइकिलों और आधुनिकता के छोटे-बड़े चिह्नïों को छोड़, जो मेरी चारों तरफ थे, हर वस्तु …